27th August 2017 114

गणेश चतुर्थी स्पेशल 5 स्टेप में आसानी से बनाएं 'मोदक'


इस साल गणेश चतुर्थी 25 अगस्त से शुरू होकर 5 सिंतबर तक चलेगी. इस बार ये 10 दिन के बजाय 11 दिन तक रहेगी. गणेश जी को विनायक, विघ्नेश्वर, गणपति, लंबोदर के नाम से भी जाना जाता हैं. मोदक गणेश जी का सबसे प्रिय व्यंजन है. जानिए कैसे बनता है मोदक.

सामग्री चावल का आटा 2 कप, गुड़ 1.5 कप, कच्चा नारियल 2 कप, काजू 4 टेबल स्पून, किशमिश 2 3 टेबल स्पून, खसखस 1 टेबल स्पून, इलाइची 5 6, घी 1 टेबल स्पून, नमक आधी छोटी चम्मच

विधि

स्टेप 1

गुड़ और नारियल को कढा़ई में डाल कर गर्म करें. जब गुड़ पिघलने लगे तो चम्मच से लगातार चला कर भून लें. मिश्रण खूब गाढा़ हो जाए तो इसमें काजू, किशमिश, खसखस और इलाइची मिलाएं. मोदक में भरने के लिये पिट्ठी तैयार है.

स्टेप 2

2 कप पानी में 1 छोटी चम्मच घी डाल कर गर्म करें. पानी में उबाल आने पर गैस बंद कर दें. चावल का आटा और नमक पानी में डाल कर चम्मच से चलाकर मिलाएं. इस मिश्रण को 5 मिनट के लिये ढक कर रख दें.

स्टेप 3

अब चावल के आटे को एक बड़े बर्तन में निकाल कर हाथ से नरम आटा गूथ लें. यदि आटा सख्त लग रहा हो तो 1 2 टेबल स्पून पानी डाल कर और थोड़ा सा घी हाथों में लगाकर आटे को मसल कर नरम कर लें. साफ कपड़े से ढक कर रख दें.

स्टेप 4

हाथ को घी से चिकना करें और गुथे हुए चावल के आटे से एक नीबू के बराबर आटा निकाल कर हथेली पर रखें. दूसरे हाथ के अंगूठे और उंगलियों से उसके किनारों को पतला करते हुए बढ़ा लें. अब इसमें उंगलियों से थोड़ा सा गड्ढा करें और उसमें 1 छोटी चम्मच पिट्ठी रख कर अंगूठे और उंगलियों की सहायता से मोड़ डालते हुए ऊपर की तरफ चोटी का आकार देते हुए बंद कर दें. सारे मोदक इसी तरह तैयार कर लें.

स्टेप 5

किसी चौड़े बर्तन में 2 छोटे गिलास पानी डाल कर गरम करें. उस पर जाली स्टैंड लगा दें. अब जाली के ऊपर मोदक रख कर ढंक दें. 10 12 मिनट तक भाप में पकने दें. थोड़ी देर बाद जब मोदक चमकदार लगने लगें तो वे तैयार हो गए. गरमा गरम परोस कर खाएं.


Visitors: 293763
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.