13th July 2016 53

पंजाब में कांग्रेस को बगावत का डर; कैंडिडेट्स को भरना होगा वफादारी का बॉन्ड


पंजाब में कांग्रेस को बगावत का डर; कैंडिडेट्स को भरना होगा वफादारी का बॉन्ड



चंडीगढ़. कांग्रेस को पंजाब में भी बगावत का डर सता रहा है। पार्टी ने वेस्ट बंगाल के बाद यहां के संभावित एमएलए कैंडिडेट्स से वफादारी का बॉन्ड साइन करने को कहा है। बताया जा रहा है कि पार्टी ने यह कदम २०१७ में होने वाले असेंबली इलेक्शन के मद्देनजर उठाया है। सभी दावेदारों को एक एफिडेविट पर साइन करना होगा। इसके मुताबिक, साइन करने वाले को अगर चुनाव में नहीं उतारा जाता है, तब भी वह पार्टी के खिलाफ नहीं जा सकता। इसे १५ अगस्त तक भरकर देना है। और क्या हैएफिडेविटमें...

इस एफिडेविट के मुताबिक, जीतने वाले एमएलए को भी सदन में पार्टी की इच्छा के मुताबिक ही काम करना होगा।

बता दें कि पंजाब में २०१२ में टिकट ना मिलने पर कई कांग्रेस नेताओं ने पार्टी के ऑफिशियल कैंडिडेट के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था।

ऐसा कहा जा रहा है कि इस एफिडेविट को पार्टी के इलेक्शन स्ट्रैटजिस्ट प्रशांत किशोर ने तैयार किया है।

क्या है एफिडेविट में?

इस एफिडेविट को भरवाने से लेकर कलेक्ट करने और टिकट बांटने की प्रॉसेस पंजाब कांग्रेस की टीम करेगी।

इसमें लिखा है "मैं वादा करता हूं कि अगर मैं कांग्रेस की ओर से किसी भी असेंबली के लिए नहीं चुना जाता, तो मैं किसी भी कांग्रेस कैंडिडेट के खिलाफ किसी भी सीट से चुनाव नहीं लडूंगा और पार्टी के ऑफिशियल कैंडिडेट को पूरी तरह समर्थन करूंगा। इलेक्शन के बाद भी मैं समय समय पर पार्टी और सेंट्रल पार्लियामेंट बोर्ड द्वारा बनाए गए सभी प्रिंसिपल्स या पॉलिसीज और दिए गए आदेशों का पालन करूंगा।"

इसके आलावा कैंडिडेट को यह भी खुलासा करना होगा कि क्या वह पहले भी पार्टी को छोड़ चुके हैं, अगर हां तो छोड़ने का कारण भी बताना होगा।

उन्हें अपनी कास्ट, नाम और जिस असेंबली सीट वह चुनाव लड़ना चाहते हैं, वहां के हर बूथ से दो दो वोटरों के टेलीफोन नंबर्स देने होंगे।

कैंडिडेट्स को यह एप्लिकेशन १५ अगस्त तक भरकर वापस करना है।

बंगाल में भी भरवाया था ऐसा फॉर्म

उत्तराखंड में बगावत के बाद वेस्ट बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने इलेक्शन में जीते सभी ४४ विधायकों से स्टांप पेपर पर साइन कराए थे।

इसे एक तरह से सोनिया और राहुल गांधी के प्रति वफादारी बनाए रखने का बॉन्ड माना गया।

ये लिखा था बॉन्ड में


नेताओं से भरवाए गए बॉन्ड में कहा गया था कि सभी विधायक पार्टी प्रेसिडेंट सोनिया गांधी और राहुल गांधी के लिए वफादारी रखेंगे।

दो पेज के स्टांप में लिखा था, ''मैं बिना शर्त कांग्रेस के प्रति अपना विश्वास रखता हूं, जिसकी बिना शर्त अगुआई सोनिया और राहुल गांधी कर रहे हैं।''

दूसरे प्वाइंट में लिखा था, ''असेंबली में पार्टी का हिस्सा रहते मैं पार्टी के खिलाफ होने वाली किसी भी एक्टिविटी में शामिल नहीं रहूंगा। पार्टी के लिए नेगेटिव बात नहीं कहूंगा। ऐसे किसी काम को करने से पहले अपने पद से इस्तीफा दे दूंगा।''



ताज़ा खबर

Visitors: 293814
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.