11th January 2019 28

बुआ भतीजे के गठबंधन की सीटों का कल होगा ऐलान


दोनों पार्टियों ने जारी किया साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस का पत्र

26 साल पहले हुए गेस्ट हाउस कांड के बाद नजदीक आईं दोनों पार्टियां

समाजवादी पार्टी 35 और बहुजन समाज पार्टी 36 सीटों पर लड़ेंगी चुनाव

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश का किला फतह करने के लिए बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी शनिवार को अपने गठबंधन का एलान कर सकती हैं। दोनों पार्टियां कल दोपहर 12 बजे एक साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस करने जा रही है। माना जा रहा है कि बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव यूपी में सीटों के बंटवारे के साथ ही गठबंधन की घोषणा कर सकते हैं। इससे पहले पिछले हफ्ते ही दोनों नेताओं के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर चर्चा हुई है। 

बता दें कि आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी की सीटों और गठबंधन का औपचारिक ऐलान कल यानी शनिवार को हो सकता है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती लखनऊ में ज्वॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसका ऐलान कर सकते हैं। सपा की ओर से जारी मीडिया निमंत्रण के मुताबिक ये प्रेस कॉन्फ्रेंस लखनऊ के गोमती नगर स्थित होटल ताज में होगी। 26 साल पहले हुए गेस्ट हाउस कांड के बाद दोनों पार्टियों में आई दूरी के बाद यह पहला मौका है जब दोनों नेता एक साथ पत्रकारों के सामने बैठे दिखेंगे।

एसपी बीएसपी के गठबंधन को लेकर लंबे वक्त से बातचीत चल रही थी। एक सप्ताह पहले ही दिल्ली में अखिलेश यादव ने मायावती से मुलाकात की थी। दोनों की यह मुलाकात डेढ़ घंटे तक चली थी। मुलाकात के बाद सूत्रों के मुताबिक ऐसी खबरें थीं कि दोनों के बीच सीट शेयरिंग का फॉर्मूला तय हो चुका है। अब केवल इसका औपचारिक ऐलान किया जाना बाकी है। जो फॉर्मूला तैयार हुआ है, उसके मुताबिक समाजवादी पार्टी 35 सीट, बसपा 36 सीट और राष्ट्रीय लोकदल 3 सीट पर चुनाव लड़ेगी। वहीं 4 सीट रिजर्व रखी जाएंगी। इसके अलावा गठबंधन अमेठी और रायबरेली में अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगा।

पिछले लोकसभा चुनावों में बुरी तरह मात खाने के बाद इस बार दोनों पार्टियां एक साथ मिलकर भाजपा से मुकाबला करेंगी। पिछले चुनावों में यूपी की 80 सीटों में से भाजपा को 71 सीटों पर जीत मिली थी। वहीं मायावती की पार्टी खाता भी नहीं खोल सकी थी। ऐसे में इस चुनावों में अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए दोनों पार्टियों ने हाथ मिला लिया है। लेकिन यह गठबंधन विपक्ष के महागठबंधन का हिस्सा होगा कि नहीं यह साफ  नहीं है। 

महागठबंधन में आरएलडी का पेंच, प्रेस कॉन्फ्रेंस से बनाई दूरी

नई दिल्ली। बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के महागठबंधन का कल ऐलान होने वाला है लेकिन इस ऐलान से पहले आरएलडी का पेंच फंस गया है। उत्तर प्रदेश में कम सीट मिलने से अजित सिंह की पार्टी नाराज हो गई है। अखिलेश मायावती अजित सिंह की पार्टी को 2 सीटें देना चाहते हैं लेकिन आरएलएडी ने दो टूक कह दिया है कि उन्हें ज्यादा सीटें चाहिए। खबर है कि इस नाराजगी की वजह से आरएलएडी ने कल होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस से अपनी दूरी बना ली है।

गठबंधन से कांग्रेस बाहर! 

मीडिया को प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए जो आमंत्रण मिला है उसमें दोनों पार्टियों के अध्यक्षों मायावती और अखिलेश यादव का नाम है। प्रेस कॉन्फ्रेंस के निमंत्रण में दोनों पार्टियों के महासचिवों के हस्ताक्षर है। लेकिन इसमें कांग्रेस का कोई जिक्र नहीं है। ऐसे में माना जा रहा है कि कांग्रेस इस गठबंधन में शामिल नहीं होगी। 

ये है फॉर्मूला

यूपी में लोकसभा की 80 सीटें हैं। पिछले लोकसभा चुनावों में यूपी से बीजेपी को 71 सीटें मिली थीं। इसे देखते हुए उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मायावती और अखिलेश यादव के बीच घंटों तक चली बैठक के बाद सीटों का फॉर्मूला तय हुआ। मायावती के दिल्ली आवास त्याग राज मार्ग पर हुई बैठक में तय हुआ है कि सपा और बसपा 35 36 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। दो सीटें राष्ट्रीय लोक दल के लिए संभावित रूप से अजीत सिंह और जयंत चौधरी के लिए छोड़ी जा सकती हैं।

गठबंधन में कांग्रेस को बस 2 सीटें 

इस गठबंधन में कांग्रेस के लिए कोई स्थान नहीं रखा गया है। कांग्रेस को सिर्फ दो सीटें दी गई हैं, 2 सीटें अमेठी और रायबरेली राहुल और सोनिया गांधी के लिए छोड़ी जा सकती हैं। 2 सीटें महागठबंधन के अन्य साथियों ओमप्रकाश राजभर की पार्टी के लिए छोड़ी जा सकती हैं। महागठबंधन के लिए अन्य साथियों के नहीं साथ आने की स्थिति में 1 1 सीटें सपा और बसपा आपस में बांट लेंगी।


Visitors: 320795
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.