7th February 2019 39

ईडी के दरबार में फिर वाड्रा की एंट्री


मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रर्वतन निदेशालय की दूसरे दिन भी पूछताछ जारी

नई दिल्ली। रॉबर्ट वाड्रा मनी लॉन्ड्रिंग केस के मामले में दूसरे दिन भी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दफ्तर पहुंचे। इससे पूर्व बुधवार को भी ईडी ने रॉबर्ट वाड्रा से 6 घंटे पूछताछ की थी। इस दौरान वाड्रा से कई सवाल पूछे गये, लेकिन ईडी को संतोषजनक जबाव नहीं मिलने के कारण आज फिर अपने दफ्तर बुलाया, जहां वाड्रा से दोबारा पूछताछ की जा रही है।

बता दें कि मनी लॉन्ड्रिंग केस में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा आज एक बार फिर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सामने पेश हुए। रॉबर्ट वाड्रा को सुबह 10.30 बजे ईडी के दफ्तर पहुंचना था, लेकिन वह 11.25 बजे ईडी दफ्तर पहुंचे। जहां एक बार उन्हें ईडी के सवालों का सामना करना पड़ रहा है। दिल्ली की एक अदालत ने रॉबर्ट वाड्रा को 16 फरवरी तक गिरफ्तारी से मोहलत दी थी, लेकिन साथ ही ईडी के सवालों का सामना करने को कहा था। ईडी के 3 वरिष्ठ अधिकारियों की टीम रॉबर्ट वाड्रा से इस मामले में पूछताछ कर रही है, जिसका नेतृत्व डिप्टी डायरेक्टर राजीव शर्मा कर रहे हैं। इसके अलावा ईडी ने रॉबर्ट वाड्रा को जयपुर में पेश होने को कहा है। वाड्रा को ईडी के जयपुर दफ्तर में 12 फरवरी को पेश होना होगा। इससे पहले वह बुधवार को भी पूछताछ के लिए ईडी दफ्तर पहुंचे थे, जहां करीब 6 घंटे ईडी के अधिकारियों ने उनसे कई सवाल पूछे। 

 कार्ति भी पेश हुए ईडी के समक्ष

नई दिल्ली। रॉबर्ट वाड्रा से पूछताछ के बाद अब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की गाज चिदंबरम फैमिली पर गिर सकती है। इस जांच की आंच से कांग्रेस के सीनियर लीडर और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम की मुश्किलें बढ़ रही हैं। पूर्व वित्त मंत्री से ईडी 8 फरवरी को पूछताछ कर सकती है जबकि उनके बेटे कार्ति चिदंबरम से आज सवाल जवाब किया गया। दोनों पर आईएनएक्स मीडिया डील मामले में मनी लांड्रिंग का आरोप है।

बता दें कि आईएनएक्स मीडिया केस की जांच प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई दोनों कर रही हैं। दोनों एजेंसियों की जांच में 2007 में कार्ति ने किस तरह से विदेशी निवेश प्रमोशन बोर्ड यानी एफआईपीबी से क्लीयरेंस कराया। 2007 में कार्ति के पिता पी चिदंबरम वित्त मंत्री थे। हालांकि इस मामले में ईडी और सीबीआई पी. चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति से पूछताछ कर चुकी है। इस केस में कार्ति को सीबीआई ने गिरफ्तार भी किया था। बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी।

आरोप है कि आईएनएक्स मीडिया को मंजूरी दिलाने के लिए कंपनी के डायरेक्टर पीटर और इंद्राणी मुखर्जी ने पी चिदंबरम से मुलाकात की थी। यही नहीं कार्ति चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया को एफआईपीबी से मंजूरी दिलाने के लिए मोटी रिश्वत में मिली थी और 2007 में ही कंपनी के 305 करोड़ रुपये विदेश से देश में पहुंचाए गए थे। ईडी ने सीबीआई की एफआईआर के आधार पर ही पीएमएलए का केस दर्ज किया है लेकिन पिछले कुछ वक्त से कार्ति जांच में सहयोग नहीं कर रहे थे जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें फटकार लगाई थी। 

वाड्रा के समर्थन में आईं ममता 

कोलकाला। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी रॉबर्ड वाड्रा के समर्थन में उतर आईं हैं। वाड्रा से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की पूछताछ के मुद्दे पर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए ममता ने कहा कि पूरा विपक्ष रॉबर्ड वाड्रा के साथ खड़ा है। ममता ने आरोप लगाया कि वाड्रा को राजनीतिक कारणों में फंसाया जा रहा है।

सरकार पर हमला करते हुए ममता ने कहा कि भाजपा जानबूझकर ऐसा कर रही है, ताकि चुनाव से पहले लोगों को गुमराह कर सके। ममता ने कहा कि भाजपा की यह कोशिश है कि विपक्ष एकजुट न हो सके। इसलिए वह किसी न किसी को ईडी का नोटिस भिजवा रही है, लेकिन सारी विपक्षी पार्टियां एकजुट हैं। वाड्रा का समर्थन करते हुए उन्होंने कहा कि यह केवल राजनीतिक साजिश है। यह कोई गंभीर मामला नहीं है। हर किसी को नोटिस भेजे जा रहे हैं, लेकिन हम सब साथ खड़े हैं और एकजुट हैं। ममता ने कहा कि हम इसके खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत करेंगे। उन्होंने कहा कि हम निर्वाचन आयोग के समक्ष शिकायत दर्ज कराएंगे कि विपक्ष की छवि को खराब करने के लिए केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल किया जा रहा है। 


Visitors: 340041
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.