5th February 2019 31

सुप्रीम को राजीव पर नहीं आई ममता


 उच्चतम न्यायालय ने पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को दिया सीबीआई के सामने पेश होने का आदेश

20 फरवरी को होगी अगली सुनवाई, राजीव कुमार की नहीं होगी गिरफ्तारी

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को तगड़ा झटका देते हुए सारदा चिटफंड घोटाले में पूछताछ के लिए कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होने का आदेश दिया। शीर्ष अदालत ने साथ ही यह साफ  किया राजीव की फिलहाल गिरफ्तारी नहीं होगी। 

बता दें कि सारदा चिटफंड घोटाला मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सीबीआई की याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होना पड़ेगा। हालांकि कोर्ट ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि फिलहाल उनकी गिरफ्तारी नहीं होगी। पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार शिलांग में सीबीआई के सामने पेश होंगे।

सुनवाई के दौरान सीजेआई रंजन गोगोई ने सवाल पूछा कि कोलकाता कमिश्नर राजीव कुमार को पूछताछ में दिक्कत क्या है? चीफ जस्टिस ने कहा कि राजीव कुमार को पूछताछ के लिए सीबीआई के समक्ष पेश होना चाहिए और जांच में सहयोग करना चाहिए। सीजेआई ने कहा कि हम पुलिस आयुक्त को खुद को उपलब्ध कराने और पूरी तरह से सहयोग करने का निर्देश देंगे। हम बाद में अवमानना याचिका से निपटेंगे।

कोर्ट ने सीबीआई की अवमानना याचिका पर पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव, डीजीपी और कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को अवमानना नोटिस जारी किया। कोर्ट ने तीनों अधिकारियों से अवमानना पर 18 फरवरी तक जवाब मांगा है। कोर्ट ने कहा कि अगर जवाब देखने के बाद जरूरत लगी तो अधिकारियों को 20 तारीख को निजी तौर पर पेश होना होगा, अगर ऐसा होता है तो 19 को सुप्रीम कोर्ट से उन्हें सूचना दी जाएगी। अब मामले की अगली सुनवाई 20 फरवरी को होगी।  

हलफनामे में क्या कहा सीबीआई ने

सारदा चिटफंड घोटाले मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सीबीआइ ने राजीव कुमार के खिलाफ  हलफनामा दाखिल किया है। सीबीआइ ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर आरोप लगाया कि कई आपत्तिजनक सामग्री,पत्राचार हैं, जिन्हें सीबीआई द्वारा वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ साथ वरिष्ठ राजनेताओं के खिलाफ जांच के दौरान एकत्र किया गया था।

राजीव कुमार पर पार्टी के नेताओं से ज्यादा भरोसा : ममता

कोर्ट के फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ममता ने कहा कि राजीव कुमार ने हमेशा कहा कि वह पूछताछ के लिए मौजूद रहेंगे। इस बारे में 5 चि_ियां भी भेजी गईं। मैं राजीव कुमार पर अपनी पार्टी के नेताओं से भी ज्यादा भरोसा करती हूं। हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश का स्वागत करते हैं। केंद्र सरकार पर बरसते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र संविधान का उल्लंघन कर रहा है। जो हालात इस वक्त बन रहे हैं उस पर मेरा दिल रो रहा है। लॉ ऐंड ऑर्डर स्टेट के पास है, और यदि इसे तोड़ दिया गया तो सभी के लिए खतरा होगा।

कोर्ट के फैसले पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि तथ्य देखने के बाद ही कुछ बोलूंगी। नैतिक रूप में ये हमारी जीत है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश का सम्मान करती हूं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला नैतिक जीत है, बंगाल की जीत है, हमारी और आपकी जीत है। वहीं धरना जारी रखने के फैसले पर उन्होंने कहा कि वह अपने नेताओं से बात करके इस पर फैसला लेंगी। ममता ने यह भी कहा कि वह जल्दबाजी में कोई जवाब नहीं देगी। सीबीआई बिना नोटिस के कमिश्नर के घर गई थी।

ममता बनर्जी ने आगे कहा कि केंद्र राज्य को चलाने में हमारा सहयोग नहीं कर रहा है। वह हमें सही तरीके से धन उपलब्ध नहीं करा रहा है। उन्होंने कहा कि यह लड़ाई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नहीं है बल्कि यह लड़ाई केंद्र सरकार के खिलाफ है। अपने धरने के बारे में बात करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि दूसरे नेताओं से बात करने के बाद धरने के बारे में दिशा तय होगी। इस मसले को लेकर चंद्रबाबू नायडू और नवीन पटनायक से भी बात करूंगी।


Visitors: 340041
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.