14th December 2018 381

पढिय़े...क्यों खुश हुए मोबाइलधारक


साइबर सेल ने तलाशे एक करोड़ के खोए मोबाइल

राज्य में 2017 नवंबर में हुआ था साइबर सेल का गठन

एसटीएफ एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने लौटाए 60 मोबाइल

एक साल के भीतर हुई एक करोड़ के मोबाइल के रिकवरी

देहरादून। राज्य के साइबर सेल ने एक बड़े काम को अंजाम दिया है। जिसे कुछ समय पहले तक असंभव माना जा रहा था। एक साल पहले अस्तित्व में आए साइबर सेल ने अपने कार्यकाल के दौरान एक करोड़ 20 लाख रुपये से अधिक के खोए मोबाइल बरामद किए हैं। ऐसे 60 मोबाइल वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ ने उनके धारकों के सुपुर्द किए हैं। ये एक बड़ी कामयाबी है और साइबर सेल इसके लिए आने वाले दिनों में भी बेहतर काम करने का दावा कर रहा है। 

आपको बता दें कि आम जनमानस के मोबाइल फोन खोने और चोरी होने की बढ़ती शिकायतों के दृष्टिगत अपर पुलिस महानिदेशक, अपराध एवं कानून व्यवस्था अशोक कुमार ने नवंबर 2017 में पुलिस स्टेशन में मोबाइल रिकवरी सेल का गठन किया था। अपने एक साल के कार्यकाल के दौरान साइबर सेल ने अपने काम के आंकड़े पेश किए, जो बेहद चौंकाने वाले थे। जी हां, साइबर सेल ने एक करोड़ रुपये से अधिक के मोबाइल बरामद किए। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ बरिंदरजीत सिंह ने बताया कि आम लोग अपने मोबाइल फोन खोने या चोरी होने की सूचना पुलिस स्टेशन में मोबाइल रिकवरी सेल में अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। पुलिस स्टेशन के मोबाइल रिकवरी सेल को उत्तराखण्ड राज्य से काफी अधिक शिकायतें प्राप्त हुयीं। मोबाईल रिकवरी सेल द्वारा पुलिस के अत्याधुनिक तकनीकों का प्रयोग करते हुये अब तक कुल 816 मोबाइल फोन बरामद कर सुपुर्द किये जा चुके हैं। जिनकी अनुमानित लागत लगभग रुपये 1,02,00000( रुपये एक करोड बीस लाख) है। उन्होंने बताया कि मोबाइल खोने या गुम होने की शिकायतें हमारा सेल सीसीटीएनएस, राज्य के थानों व अन्य स्रोतों से मंगाता है। इन मोबाइल फोन को हमारी टीम सर्विलांस पर लगाती है। अधिकतर मोबाइल खोने के बाद स्विच ऑफ हो जाते हैं, लेकिन हमारी टीम हमेशा इन्हें सर्विलांस पर लगा कर रखती है और जैसे ही मोबाइल फोन ऑन होते हैं टीम उनकी लोकेशन ट्रेस कर लेती है। जिसके बाद इन मोबाइल फोन को बरामद कर लिया जाता है और मोबाइल फोन को उनके मालिक के सुपुर्द कर देते हैं और जिनसे संपर्क नहीं हो पाता, उन्हें थानों के जरिये मोबाइल धारकों तक पहुंचा दिया जाता है। 


Visitors: 335345
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.