5th July 2017 151

आधार कार्ड बनाने में सुस्ती बरतने वालों पर कार्रवाई


केन्द्र सरकार ने 500 से ज्यादा सेंटरों पर लगाई रोक

देहरादून। राज्य में आधार कार्ड बनाने की प्रक्रिया में हीलाहवाली करने वाले सेंटरों पर केन्द्र सरकार ने सख्त रुख अपना लिया है। केन्द्र ने राज्य में आधार कार्ड बनाने वाले ऐसे पांच सौ से अधिक कॉमन सर्विस सेंटरों (सीएससी) पर रोक लगा दी है। वहीं सेंटरों पर रोक लगने से पूरे उत्तराखंड में आधार कार्ड बनाने का संकट गहरा गया है। केन्द्रीय सूचना एवं प्रोद्यौगिकी मंत्रालय को लगातार शिकायत मिलने के बाद यह फैसला लिया गया है। 

उल्लेखनीय है कि राज्य में करीब 600 से ज्यादा सीएससी पर आधार कार्ड बनाए जा रहे थे। केंद्रीय सूचना प्रोद्यौगिकी मंत्रालय को काफी समय से शिकायत मिल रही थी कि कई सीएससी पर मानकों का पालन नहीं किया जा रहा है। प्रत्येक आधार कार्ड बनाने से पहले एजेंसी संचालक को अपने अंगूठे का भी निशान देना होता है, लेकिन कई जगह एजेंसी संचालक विशेष सॉफ्टवेयर के जरिए इस व्यवस्था को नहीं मान रहे थे। आधार बनाते समय दस्तावेजों की जांच भी ठीक तरीके से नहीं की जा रही थी। इन शिकायतों के आधार पर प्रदेश में पांच सौ से अधिक सीएससी पर आधार बनाने का काम एक जुलाई से रोक दिया है। देहरादून में सीएससी वेलफेयर सोसायटी के प्रमुख अरुण कुमार अरोड़ा के मुताबिक भारत सरकार के इस कदम से प्राइवेट एजेंसी संचालकों का लाखों रुपये का निवेश बर्बाद हो गया है। 

यहां बता दें कि बेसिक और जूनियर स्तर पर छात्र छात्राओं के आधार कार्ड बनाने में शिक्षा विभाग बेहद सुस्त रफ्तार से काम कर रहा है। 

एक साल से ज्यादा का समय गुजर जाने के बाद भी अब तक केवल 75 फीसदी छात्रों के ही आधार कार्ड बन पाए हैं। केंद्र सरकार ने राज्य की इस सुस्त चाल पर नाराजगी जताते हुए जल्द से जल्द सभी छात्रों के आधार कार्ड बनाने के निर्देश दिए हैं। मानव संसाधन मंत्रालय के संयुक्त सचिव अजय टिर्की ने इस बाबत शिक्षा सचिव को देश के सभी राज्यों में आधार कार्ड की प्रगति की लिस्ट भी भेजी है। इसमें उत्तराखंड 20 वें नंबर पर है। राज्य में सात लाख 84 हजार 637 में केवल पांच लाख 82 हजार 387 के ही आधार कार्ड बन पाएं हैं। 

वहीं आधार कार्ड बनाने वाले केंद्रों पर रोक लगाए जाने से लोगों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि केंद्र सरकार ने आधार कार्ड की अनिर्वायता को हर जगह बढ़ा दिया है। बिना आधार कार्ड के बिना कोई काम होगा। यहां तक कि बैंकों में भी लेन देन के लिए आधार कार्य जरूरी हो गया है। समय से आधार कार्ड न बन पाने के कारण लोगों को भारी दिक्कतें उठानी पड़ रही हैं 


Visitors: 312386
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.