17th December 2017 213

चाइल्ड सेक्रेंड स्कूल लगा विपश्ना शिविर


लालकुआं। निकटवर्ती क्षेत्र घोड़ानाला में चाइल्ड सेक्रेंड पब्लिक स्कूल में आयोजित विपश्यना शिविर में विपश्ना साधना संस्थान नई दिल्ली से आए आचार्य चरण सिंह ने स्कूली बच्चों, अभिभावकों व क्षेत्रवासियों को आनापान ध्यान शिविर के लाभ से अवगत कराते हुए कहा कि उक्त शिविर से बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के साथ साथ बच्चों की याददाश्त भी मजबूत होगी।

पिछले तीन दिन से चल रहे  विपश्ना शिविर को संबोधित करते हुए आचार्य चरण सिंह ने कहा कि विपश्यना शिविर में भाग लेने वाले बच्चों की जहां याददाश्त बढ़ती है। वहीं उनमें एकाग्रता भी आ जाती है। उन्होंने कहा कि देश भर में कई राज्यों में  विपश्ना  शिविर का आयोजन कर बच्चों को ध्यान व आनापान कराया जा रहा है। जिन बच्चों ने ऐसे शिविरों में भाग लिया वह बच्चे क्रोध, ईष्र्या द्वेष, हीनभावना, नकारात्मक सोच से बाहर आनाए बच्चों में त्वरित फैसला करने की क्षमता तथा पढ़ाई के प्रति उनका रुझान बेहतर हुवा है तथा खेलों के प्रति भी उनमें अच्छी लगन देखी गई है। उन्होंने बताया कि देश भर में 180 केंद्र विपश्यना के चल रहे हैं। लगातार  विपश्ना के प्रति लोगों में अच्छे संकेत मिल रहे हैं। उन्होंने बताया कि भगवान गौतम बुद्ध ने 2600 साल पूर्व  विपश्ना की खोज की थी। जिसके बाद यह विद्या भारत से विलुप्त हो गई। और अब पुन: इस विद्या को आचार्य सत्यनारायण गोयंका द्वारा वर्मा म्यांमार से यहां लाया गया है। शिविर में आचार्य के साथ चार अन्य आचार्य भी दिल्ली से आए हैं। जिनके द्वारा लगातार कई चरणों में बच्चों को आनापान ध्यान विधि सिखाई जा रही है। 

शिविर में पूर्व कैबिनेट मंत्री हरीश चंद्र दुर्गापाल, नगर पंचायत अध्यक्ष राम बाबू मिश्रा, समाजसेवी गोविन्द बल्लभ जोशी, विद्यालय के मुख्य सलाहकार त्रिलोक सिंह नयाल, प्रधानाचार्य सुनीता शर्मा, हेमा कांडपाल, सीता बिष्ट, सुनीता जोशी, प्रेमा मेवाड़ी, विजय फत्र्याल, प्रकाश शर्मा, केएस दसोनी, कविता आर्य  आदि लोग मौजूद थे।



Visitors: 292157
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.