16th May 2018 1155

विधवानी मार्केट में चला अतिक्रमण हटाओ अभियान


कहीं चले घन हथौड़े तो कहीं पीले पंजे के नाखून

रुद्रपुर। महानगर में बुधवार को विधवानी मार्केट में अतिक्रमण हटाओ अभियान शुरू किया गया। फुटपाथ पर किए गए  व्यापारियों के कब्जे को हटाया गया। कहीं घन चले तो कहीं पीला पंजा। बाजार बंद जैसा रहा। कोई व्यापारी खुद अपना अतिक्रमण हटाने की मोहलत मांगता दिखाई दिया तो कुछ ने कहा कि सरकारी जमीन है, प्रशासन खुद चबूतरे तोड़ दे।

दो दिन के विश्राम के बाद बुधवार की सुबह एसडीएम युक्ता मिश्रा की अगुवाई में फिर अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया। जैसे ही नगर निगम की टीम विधवानी मार्केट में पहुंची तो व्यापारियों ने शटर गिरा दिए। नगर निगम की टीम ने विधवानी मार्केट में दुकानों के आगे बने चबूतरों को तोड़ा। नगर निगम के कर्मचारी कहीं घन व हथौड़े चला रहे थे तो कहीं पीले पंजे के नाखून चबूतरों को ध्वस्त करते दिख रहे थे। विधवानी मार्केट में कुछ व्यापारियों ने खुद ही अपना अतिक्रमण हटा लिया था और जो शेष रह गया था उसे खुद तोडऩे के लिए मोहलत मांगी। हालांकि बाजार के पूर्व पार्षद सोनू अनेजा व्यापारियों के समर्थन में जरूर खड़े थे, लेकिन प्रशासन के सख्त रुख के कारण वह मूकदर्शक की भूमिका में थे। वहां मौजूद देवभूमि व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष गुरमीत सिंह, नगर अध्यक्ष हरविंदर सिंह हरजी, राजकुमार खनीजो आदि का यही कहना था कि इससे बाजार बेरौनक हो जाएगा। 

नगर निगम को फुटपाथ बनाना है तो तोडऩे के साथ ही फुटपाथ बना दे। कहा कि इससे व्यापारी परेशान हो रहे हैं। उनका कारोबार चौपट हो रहा है। पुलिस फोर्स की मौजूदगी में पूरे विधवानी मार्केट में अतिक्रमण हटाओ अभियान चलता रहा। कुछ व्यापारियों ने खुद हटाने के लिए लिखित मोहलत मांग ली तो एक व्यापारी ने एसडीएम से कहा कि चबूतरा सरकारी जमीन पर है, जिसे टूटना तो है ही। प्रशासन खुद तोड़ देगा, उन्हें कोई आपत्ति नहीं है। एसडीएम युक्ता मिश्रा ने कहा कि हाईकोर्ट के आदेश का पालन कराया जा रहा है। जहां भी लाल निशान लगे हैं उन भवनों को हटाना है। व्यापारी खुद हटा लेंगे तो नुकसान कम होगा, लेकिन यदि जेसीबी चलेगी तो नुकसान ज्यादा होगा। कहा कि प्लानिंग करके सारा अतिक्रमण हटाया जाना है। गौरतलब है कि विधवानी मार्केट में इस कदर अतिक्रमण था कि लोगों का पैदल तक निकलना दूभर हो जाता था। व्यापारियों ने चबूतरे बना कर अतिक्रमण कर रखा था और नाली के बाहर भी सारा सामान फैला रहता था।

अतिक्रमण हटाने में खर्च की वसूली कर सकता है नगर निगम

रुद्रपुर। नगर निगम उन व्यापारियों से वसूली कर सकती है, जिनके चबूतरे नगर निगम ने तोड़े हैं। नगर निगम ने जो मुनादी कराई थी उसमें यह बात साफ कर दी गई थी कि यदि व्यापारी खुद अतिक्रमण नहीं हटाएंगे तो नगर निगम खुद उनका अतिक्रमण तोड़ देगी। अतिक्रमण हटाने में आने वाले व्यय की वसूली भी संबंधित व्यापारी से की जाएगी। नगर निगम हर दुकान की वीडियोग्राफी करा रही है। अभी नगर निगम का टारगेट अतिक्रमण हटाना है, लेकिन जब नगर निगम अतिक्रमण साफ कर देगी तो खर्च की वसूली के लिए व्यापारियों को नोटिस दिए जा सकते हैं।

गलियों में भी चलेगा अतिक्रमण हटाओ अभियान  

रुद्रपुर। महानगर में बाजार से जुड़ी गलियों में भी अतिक्रमण हटाओ अभियान चलेगा। एसडीएम युक्ता मिश्रा का कहना है कि अतिक्रमण हटाओ अभियान जारी रहेगा। हाईकोर्ट के आदेश का पूरा पालन कराया जाएगा। हालांकि गलियों में चबूतरे नहीं, बल्कि कई मंजिला पक्के भवन बने हैं। जिस दिन इन भवनों पर जेसीबी चलेगी उस दिन बाजार में मलबा ही मलबा दिखेगा। हालांकि प्रशासन के पक्के इरादों को भी व्यापारी भांप नहीं पा रहे हैं और खुद अपना अतिक्रमण हटाने वालों की संख्या नगण्य है। जिन लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है वे चिंतित जरूर हैं, लेकिन खुद से पहल नहीं कर रहे हैं। हालांकि यह तय है कि देर सवेर अतिक्रमण जरूर हटेगा।

पीछे शिफ्ट होंगी नालियां फिर बनेगा फुटपाथ

रुद्रपुर। अतिक्रमण हटाओ अभियान के बाद भी व्यापारी फुटपाथों से कब्जा नहीं हटा रहे हैं। इधर नगर निगम की टीम गई, उधर दुकानों का सामान सड़क पर सजा मिल रहा है। यह स्थिति बेहद चिंताजनक है। प्रशासन यह कवायद कर रहा है कि नगर निगम शीघ्र ही फुटपाथ बनाना शुरू करे। सूत्र बता रहे हैं कि नालियों को पीछे शिफ्ट करके आम लोगों को चलने के लिए फुटपाथ बनाए जाने की योजना है।


Visitors: 312666
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.