27th June 2018 457

भाजपा व संघ की उत्तराखंड में सक्रियता के पीछे कुछ तो है


उत्तराखंड को खास तवज्जो दे रहे मोदी, शाह व भागवत 

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह व आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत के उत्तराखंड दौरे के बाद सियासी गलियारों में काफी चर्चाएं हैं। भाजपा के शीर्ष नेताओं के उत्तराखंड में सक्रिय होने के सियासी मायने भी निकाले जा रहे हैं। भाजपा नेतृत्व उत्तराखंड को खास तवज्जो देकर कुछ न कुछ संदेश देने की कोशिश कर रहा है।

अभी हाल में ही योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देहरादून में आकर हजारों लोगों के साथ योग किया। योग करने के लिए उनका उत्तराखंड का चयन करना कोई खास संदेश देता है। एक तो यह है कि वह उत्तराखंड से सीधे जुडऩा चाहते हैं और दूसरा यह कि वह देवभूमि को तवज्जो दे रहे हैं। प्रधानमंत्री का दौरा निपटा ही था कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने यहां का दौरा किया। उन्होंने कार्यकर्ताओं की बैठक करके खासतौर पर सोशल मीडिया पर किस तरह सक्रिय रहना है इसके टिप्स दिए। श्री शाह ने मिशन 2019 की राह आसान करने के उद्देश्य से कार्यकर्ताओं से कहा कि वह केंद्र सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी आम लोगों तक पहुंचाएं। श्री शाह ने भारत माता मंदिर व शांति कुंज जाकर वहां के प्रमुख से मुलाकात की। अमित शाह के बाद राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत हरिद्वार पहुंचे। मंगलवार को उन्होंने जूना अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी महाराज से बंद कमरे में मुलाकात की। भागवत साधू संतों से मुलाकात करके उन्हें साधने का कार्य करेंगे। उत्तराखंड में भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के साथ ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की सक्रियता क्या गुल खिलाने वाली है यह तो आने वाले वक्त में ही पता चलेगा। प्रधानमंत्री मोदी, अमित शाह और भागवत के दौरे को लेकर तरह तरह की चर्चाएं सियासी फिजां में तैर रही हैं। लग रहा है कि मिशन 2019 का बिगुल भाजपा देवभूमि उत्तराखंड से ही फूंकना चाह रही है।



ताज़ा खबर

Visitors: 305529
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.