21st August 2018 109

पिथौरागढ़ के ऋषभ पंत का डेब्यू पंच


भारतीय क्रिकेट को उत्तराखंड से ही मिला धोनी का उत्तराधिकारी
आईपीएल में अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी से बनाई थी पहचान
डेब्यू मैच में पांच कैच पकडऩे वाले पहले एशियाई और विश्व के तीसरे कीपर बने

जीवन राज, हल्द्वानी।
जब भारतीय क्रिकेट टीम लंबे समय से विकेटकीपर के लिए जूझ रही थी तब वर्ष 2005 में मूल रूप से उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के रहने वाले महेन्द्र सिंह धोनी ने पाकिस्तान के खिलाफ 148 रनों की धमाकेदार पारी से विकेटकीपर की कमी पूरी कर दी।
अब महेन्द्र ङ्क्षसह धोनी के टेस्ट क्रिकेट से सन्यास लेने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम को उनके उत्तराधिकारी की तलाश थी। ऐसे में सीनियर क्रिकेटर दिनेश कार्तिक औ रिद्धीमान साह इसके दावेदार माने जा रहे थे। लेकिन इग्लैंड में चल रही पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में कप्तान विराट कोहली ने उत्तराखंड के युवा विकेटकीपर ऋषभ पंत को टीम में जगह दी। अपने डेब्यू मैच में पंत ने विकेट के पीछे शानदार प्रदर्शन किया। वह पांच कैच पकडऩे वाले विश्व के तीसरे और एशिया के नंबर वन विकेटकीपर बन गये। इसके अलावा पंत ने छक्का लगाकर अपने टेस्ट करियर में रनों का खाता खोला था। वही छक्के से अपना खाता खोलने के साथ ही वह दुनियां के 12वें और भारत के पहले खिलाड़ी बन गये।   और उत्तराखंड के सबसे युवा टेस्ट खेलने वाले खिलाड़ी बन गये। जिसके बाद उत्तराखंड के अलावा देशभर में उनके चाहने वालों में जश्न का माहौल हैं। बता दें कि ऋषभ पंत मूल रूप से पिथौरागढ़ जिले के गंगोलीहाट तहसील में पाली गांव के रहने वाले है। उनका परिवार वर्तमान में रूड़की में रह रहा है। उन्होंने अपनी प्रथम क्रिकेट श्रेणी की शुरूआत रणजी ट्राफी से शुरू की थी।
प्रथम श्रेणी क्रिकेट में उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 308 रनों का है। वर्तमान में दिल्ली की तरफ से खेल रहे हैं। इस आईपीएल  सीजन में वह दिल्ली के तरफ से 600 रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज बने। आईपीएल सीजन में 63 गेंदों पर 128 रन बनाने के बाद सौरव गागुली ने कहा था कि यह एक दिन वह टीम इंडिया का हिस्सा बनेगा।
अब इग्लैंड के खिलाफ अपने शानदार प्रदर्शन से ऋषभ पंत ने अपनी दावेदारी ठोक दी है। और भारतीय क्रिकेट को धोनी का उत्तराधिकारी उत्तराखंड से मिलने की संभावना और मजबूत हो गई। महेन्द्र सिंह धोनी के अलावा आईपीएल और भारतीय क्रिकेट में उत्तराखंड का नाम रोशन करने वालों में उन्मुक्त चंद ठाकुर, मनीष पांडेय, ऋषभ पंत, पवन नेगी, पवन सुयाल, अनुज रावत, आर्यन जुयाल और बागेश्वर जिले के तेज गेंदबाज कमलेश नगरकोटी का नाम भी शामिल हैं।
ये उत्तराखंडी विकेटकीपर भी कर रहे दावेदारी

हल्द्वानी। हाल ही में अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी से सुर्खियों में आने वाले अंडर 19 के खिलाड़ी नैनीताल जिले के रामनगर निवासी अनुज रावत भी राष्ट्रीय टीम में अपनी जगह बनाने को आतुर है। ईस्ट जोन के खिलाफ 256 रनों के पारी ने युवा विकेटकीपर बल्लेबाज को चार दिवसीय मैचों में अंडर 19 की कप्तानी मिली। वही अंडर 19 विश्व कप में खेलने वाले नैनीताल जिले के हल्द्वानी निवासी विकेटकीपर बल्लेबाज आर्यन जुयाल भी राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के लिए भरकस प्रयास कर रहे है। आर्यन को श्रीलंका दौर के उपकप्तान बनाया गया था। और एक मैच में कप्तान बनाया गया। जहां अपनी बल्लेबाजी के दम पर उन्होंने टीम को सीरीज जीताने में अहम योगदान निभाया।


Visitors: 303441
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.