24th August 2018 78

नौकायन में भारत को 8 साल बाद मिला दूसरा गोल्ड


18वें एशियाई खेलों में छठे दिन गोल्ड, रजत और कांस्य से खुला भारत का खाता

जकार्ता। भारत को 18वें एशियाई खेलों में छठे दिन शुक्रवार को रोइंग स्पर्धा से पहला स्वर्ण पदक हासिल हुआ। स्वर्ण सिंह, भोनाकल दत्तू, ओम प्रकाश और सुखमीत सिंह की टीम ने रोइंग में पुरुषों की क्वाड्रपल स्कल्स टीम स्पर्धा का स्वर्ण अपने नाम किया। भारतीय टीम ने फाइनल में 6 मिनट और 17.13 सेकेंड का समय लेकर पहला स्थान हासिल किया। भारत की झोली में गिरा अब तक यह छठा स्वर्ण पदक है। इस स्पर्धा का रजत पदक इंडोनेशिया और कांस्य पदक थाईलैंड ने जीता। इसी स्पर्धा में भारत को शुक्रवार को दो कांस्य पदक भी हासिल हुए हैं।

बता दें कि 18वें एशियाई खेलों के छठे दिन भारत की शुरुआत शानदार रही। रोइंग में भारत को एक गोल्ड और दो ब्रॉन्ज मेडल मिले। स्वर्ण सिंह, भोनाकल दत्तू, ओम प्रकाश और सुखमीत सिंह  ने रोइंग के क्वाड्रपल स्कल्स में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया। भारतीय टीम ने फाइनल में 6 मिनट और 17.13 सेकेंड का समय लेकर पहला स्थान हासिल किया। इसके अलावा दुष्यंत ने पुरुषों की लाइटवेट एकल स्कल्स स्पर्धा के फाइनल में तीसरा स्थान हासिल कर कांस्य पदक जीता। उन्होंने में 7 मिनट और 18.76 सेकेंड का समय लगाते हुए कांस्य पदक हासिल किया। दुष्यंत ने 2014 में भी एशियाई खेलों में इसी स्पर्धा में भारत को कांस्य पदक दिलाया था। दूसरा ब्रॉन्ज मेडल भारत को रोहित कुमार और भगवान सिंह की जोड़ी ने लाइटवेट डबल्स स्कल्स स्पर्धा में दिलाया। रोहित और भगवान ने 7 मिनट और 04.61 सेकेंड का समय लेकर स्पर्धा का फाइनल चरण पूरा किया और तीसरे स्थान पर रहकर कांस्य पदक पर कब्जा जमाया।

एशियाई खेलों में भारत को रोइंग में 8 साल बाद गोल्ड मेडल मिला है। इससे पहले 2010 के ग्वांग्झू एशियाई खेलों में भारत को मेंस सिंगल स्कल्स में बजरंग लाल ताखर ने गोल्ड मेडल दिलाया था। पिछले एशियन गेम्स की तुलना में भारत का यह बेहतरीन प्रदर्शन है। 2014 इंचियोन एशियाड में भारत को तीन ब्रॉन्ज मेडल हासिल हुए थे। 



Visitors: 303450
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.