16th May 2018 236

पढिय़े... कहां दौड़ रहा थाने चौकियों पर मौत का करंट


आखिरकार सुहेल की मौत के बाद भी नहीं सुधरा सरकारी अमला

बीती 10 अप्रैल को 11 हजार केवी लाइन की चपेट में आ गया था एसी मैकेनिक

दिनेशपुर थाने की छत के ऊपर से गुजरी लाइन के पास तार चेक करने गया था

विकास राय, दिनेशपुर

सुहेल की दर्दनाक मौत तो आपको याद ही होगी। इस दर्दनाक मौत को अभी एक माह ही गुजरा है। हाईटेंशन लाइन की चपेट में आए सुहेल की दिनेशपुर थाने की छत पर तड़प तड़प कर मौत हो गई थी, लेकिन इस मौत से सरकारी अमले ने सबक लेने की कोशिश नहीं की। आलम यह है कि अभी भी जिले के थाने और चौकियों के ऊपर से बदस्तूर मौत का करंट दौड़ रहा है। तो क्या इसे यह मान लिया जाए कि अभी पुलिस को एक और मौत का इंतजार है। 

ये वाक्या बीती 10 अप्रैल का और घटनास्थल है दिनेशपुर थाना। इस थाने में थानेदार का आवास भी है। थानेदार को ठंडा रखने के लिए उनके आवास में एसी लगाया गया है। 10 अप्रैल से पहले थानेदार डीआर वर्मा के आवास में लगा एसी खराब हो गया था। जिसे ठीक करने के लिए पुलिसकर्मियों ने लंबाखेड़ा निवासी सुहेल (22) पुत्र अरसब अली और गदरपुर निवासी फैजान पुत्र बबलू को बुलाया था। फैजान थानेदार के कमरे में लगे एसी को चेक कर रहा था। जबकि सुहेल फाल्ट तलाशने के लिए थाने के ऊपर गया था। वो इस बात से अंजान था कि छत के ऊपर से 11 हजार केवी की जानलेवा बिजली की लाइन गुजरी है। सुहेल जैसे ही 11 हजार केवी की लाइन के पास पहुंचा तो करंट ने उसे अपनी ओर खींच लिया और हजारों वोल्ट की हैवी लाइन सुहेल की गर्दन में चिपक गई। सुहेल की छटपटा कर वहीं मौत हो गई। इधर, काफी देर बाद भी जब सुहेल नीचे नहीं आया तो फैजान छत पर पहुंचा और वहां का नजारा देखकर वह चीख पड़ा। आनन फानन में थानेदार डीआर वर्मा ने विद्युत विभाग को फोन कर बिजली कटवाई। हालांकि इसका कोई लाभ नहीं हुआ। क्योंकि सुहेल मर चुका था। 

खैर, सुहेल की मौत को आज एक महीना और छह दिन गुजर चुके हैं, लेकिन पुलिस ने सुहेल की मौत से सबक लेने की कोशिश नहीं की। आज भी दिनेशपुर थाने के ऊपर से मौत का करंट दौड़ रहा है। जिसे हटाने की जहमत नही उठाई गई। 

एसएसपी के आदेश को थानेदारों ने ताक पर रखा

सुहेल की मौत के बाद हरकत में आए एसएसपी डा.सदानंद शंकर राव दाते ने पूरे मामले को गंभीरता से लिया। घटना के तुरंत बाद एसएसी ने आदेश जारी किया कि जिन भी थाने और चौकियों के ऊपर से विद्युत लाइन गुजर रही है उन्हें हटवाया जाए, लेकिन एसएसपी के आदेश को थानेदार और चौकी प्रभारियों ने जैसे एक कान से सुना और दूसरे से निकाल दिया। जिसकी ताजा बानगी वही दिनेशपुर थाना है, जिसके ऊपर से गुजरी 11 हजार केवी की लाइन ने सुहेल की जान ले ली और लाइन आज भी जस की तस स्थिति में है। हालांकि आदेश देने के बाद एसएसपी ने भी अपने आदेश पर हुए पालन का जायजा नहीं लिया। 

जिले में तमाम थाने चौकियां है मौत की जद में

बात केवल दिनेशपुर थाने की नहीं है बल्कि जिले में ऐसे थानों और चौकियों की कमी नहीं है जो हमेशा खतरे की जद में रहती हैं। दिनेशपुर के बाद अगर सिडकुल चौक पर बनी चौकी पर गौर करें तो वह भी खतरे की जद में है। हाल ही में भयंकर आधी तूफान आया था। जिसने चौकी की छत को उड़ा दिया था। चौकी की टीन की छत हजारों वोल्ट की लाइन से टकराई थी और जोरदार धमाका हुआ था। हजारों वोल्ट की ये लाइन चौकी के ठीक ऊपर से गुजरी है। गनीमत रही कि धमाके के साथ तार टूट कर नीचे नहीं गिरे। अगर ऐसा होता तो यकीनन सुहेल के बाद फिर किसी के मौत की मनहूस खबर जरूर आती। 

सऊदी अरब में मजदूरी करता है सुहेल का भाई

सुहेल बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखता है। इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सुहेल का एक भाई साजिद सऊदी अरब में मजदूरी करता है। वह साल में एकाध बार ही घर आ पाता है। घर में पिता अरसब अली के अलावा मां कबिला, दो छोटे भाई सोहेल और शाकिल पढ़ाई करते हैं। जबकि दो छोटी बहनें सायना और नगमा भी हैं। साजिद और सुहेल मिलकर कमाते थे ताकि परिवार को अच्छा खाना दे सकें और भाइयों को पढ़ा सकें। इसके बाद वह बहनों की अच्छे घर में शादी करना चाहते थे, लेकिन इस ख्वाब को पूरा करने से पहले ही सुहेल बड़े भाई साजिद का साथ छोड़ कर चला गया। 




Visitors: 294146
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.