30th May 2017 73

आडवाणी सहित 12 नेताओं को जमानत


बाबरी केस में आरोपी हैं सभी वरिष्ठ नेता

सीबीआई कोर्ट में हुई सुनवाई

योगी ने किया नेताओं का स्वागत

लखनऊ। अयोध्या का विवादित ढांचा ढहाए जाने के मामले में मंगलवार को लाल कृष्ण आडवाणी समेत सभी आरोपियों को जमानत मिल गई। अयोध्या के विवादित ढांचे के मामले में अदालत में पेश होने के लिए भाजपा के बड़े नेता मंगलवार को लखनऊ पहुंचे हैं। सभी नेता वीवीआईपी गेस्ट हाउस पहुंचे यहां सीएम योगी आदत्यिनाथ ने वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी का स्वागत किया। आडवाणी के साथ उनकी बेटी प्रतिभा आडवाणी भी मौजूद रही।

कोर्ट रूम में ट्रायल शुरू हुआ तो सभी आरोपियों को सीबीआई की चार्जशीट में लगाए गए आरोप पढ़कर सुनाए गए। भाजपा नेताओं पर अयोध्या का विवादित ढांचा गिराने और षडयंत्र रचने का आरोप है। आरोपियों को इस पर जवाब देना होगा। सीएम आदित्यनाथ, आडवाणी और जोशी को वीवीआईपी गेस्ट हाउस के बाहर तक छोडऩे आए थे। करीब सवा बारह बजे लाल कृष्ण आडवाणी कोर्ट पहुंचे वहां उन्होंने किसी से बात नहीं की उनकी कार सीधे कोर्ट के बाहर ले जाई गई। उनके अलावा साध्वी ऋ तंभरा, उमा भारती भी कोर्ट पहुंची। वहीं सीबीआई कोर्ट पहुंचे साक्षी महाराज ने कहा कि  कोर्ट में मंदिर बनाने की बात करूंगा। मंदिर बनाना तो पुण्य का काम है। इस मामले में उमा भारती ने कहा, मैं छह दिसंबर को अयोध्या में मौजूद थी। मेरी तो खुली भागीदारी थी। जैसे इमरजेंसी के खिलाफ  आंदोलन था वैसे ही ये खुला आंदोलन था। इसमें भाजपा के करोड़ों नेता शामिल हुए थे। विनय कटियार ने कहा कि मुझे कोई मलाल नहीं है। लाखों भक्तों की इच्छा थी जिसे हम सबने मिलकर पूरा किया। लखनऊ पहुंचे राम विलास वेदांती ने कहा कि केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकार है। हमें पूरा विश्वास है कि अयोध्या में भव्य मंदिर बनेगा। उन्होंने कहा हमने खंडहर मंदिर तोड़ा था वहां मस्जिद का कोई नामोनिशान नहीं था। हम पुराना ढांचा तोड़कर नया मंदिर बनाना चाहते थे। इसमें आडवाणी और जोशी का कोई दोष नहीं है। उन्होंने हमें रोका था हमने ही कारसेवकों को ललकार कर मंदिर का ढांचा ध्वस्त करवाया था। अयोध्या में विवादित ढांचा गिराने के मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, उमा भारती, विनय कटियार, मुरली मनोहर जोशी तथा साध्वी ऋ तंभरा और विष्णु हरि डालमिया पर मंगलवार को आरोप तय किए जाएंगे।

सभी आरोपी सीबीआई के विशेष कोर्ट में हाजिर होने के लिए लखनऊ पहुंचे हैं। सीबीआई की विशेष कोर्ट इंस्टीट्यूट की तीसरी मंजिल पर है लेकिन आरोपियों की अधिक उम्र को देखते हुए जज ने ग्राउंड फ्लोर पर स्थित कमरे में ट्रायल रखने का निर्देश दिया है। यहां चल रहे ट्रायल के दौरान पिछले सप्ताह आरोपियों की ओर से हाजिरी माफ ी की अर्जी दी गई थी, जिसे मंजूर करते हुए अदालत ने इन्हें 30 मई को पेश होने को कहा था।



Visitors: 291491
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.