15th April 2017 98

रामपुर में राज्यरानी इंटरसिटी "बे पटरी"


22 यात्री घायल, 12 की हालत गंभीर

रामपुर में कोसी पुल के पास हुआ हादसा

घटनास्थल पर पटरी की फिश प्लेट निकली मिली

रामपुर। मेरठ से लखनऊ जा रही राज्यरानी एक्सप्रेस ट्रेन की आठ बोगियां पटरी से उतर गई जिसमें 22 यात्रियों के घायल होने की खबर है। इनमें से मां बेटे सहित 12 की हालत नाजुक बताई जा रही है। मुरादाबाद रेल मंडल से रिलीफ ट्रेन के साथ रेलवे के अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं, राहत दल में चिकित्सकों की टीम के साथ रेलवे का यांत्रिक दल रेस्क्यू में जुटा है। मुरादाबाद और रामपुर के जिलाधिकारी, पुलिस कप्तान भी प्रशासनिक और पुलिस अफसरों के साथ घटनास्थल पर मौजूद हैं। स्थानीय लोगों की मदद से घायलों का रामपुर के जिला अस्पताल के साथ ही निजी अस्पतालों में इलाज कराया जा रहा है। सुबह करीब साढ़े दस बजे तक सभी यात्रियों को दुर्घटनाग्रस्त बोगियों से निकाल लिया गया है। यात्रियों को उनके गन्तव्य तक पहुंचाने की रेलवे व्यवस्था कर रहा है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने हादसे की जांच के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने कहा कि यदि कोई चूक पाई जाती है तो दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उधर सरकार ने घटनास्थल के लिए एनडीआरएफ की टीम भी रवाना कर दी है। 

मेरठ से लखनऊ जा रही राज्यरानी एक्सप्रेस सात बजे मुरादाबाद जंक्शन से रवाना हुई थी। करीब साढ़े सात बजे ट्रेन ने रामपुर में कोसी पुल पार किया और रामपुर की तरफ बढ़ी तो ट्रेन की आठ बोगियां पटरी से उतर गई। दुर्घटना की सूचना मिलते ही मंडल रेल मुख्यालय मुरादाबाद से रिलीफ ट्रेन के साथ मंडल रेल प्रबंधक, रेलवे के इंजीनियर, चिकित्सक व यांत्रिक दल घटनास्थल पहुंच गया। इस बीच जिलाधिकारी रामपुर, जिलाधिकारी मुरादाबाद, दोनों जिलों के पुलिस कप्तान दलबल के साथ घटनास्थल आ गए। रेलवे के साथ जिला अस्पतालों के चिकित्सकों की टीम को भी तलब कर लिया गया। रेस्क्यू टीम ने पटरी से उतरी बोगियों में फंसे लोगों को निकालने का काम शुरू किया। इनमें जो घायल यात्री थे उनकी मौके पर ही प्राथमिक चिकित्सा की गई। गंभीर घायल यात्रियों को फस्र्टएड देने के बाद जिला अस्पताल पहुंचाने की व्यवस्था की गई। प्रारंभिक जांच में पता चला कि टूटी हुई रेल पटरी से इंजन गुजरा तो चालक को झटके का एहसास हुआ, लेकिन वह इसकी जानकारी कंट्रोल रूम को दे पाता इससे पहले ही ट्रेन की आठ बोगी पटरी से उतर गई।  

यूपी सरकार ने किया मुआवजे का ऐलान

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे में यात्रियों के घायल होने पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने गंभीर रूप से घायल यात्रियों को 50 हजार रुपये और मामूली घायलों को 25 हजार रुपये की आर्थिक सहायता की घोषणा करते हुए सिंचाई राज्य मंत्री महेंद्र औलख को घायलों को ये मदद मौके पर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

पांच ट्रेनों का रूट डायवर्ट

रामपुर। रामपुर से महज पांच किलोमीटर पहले राज्यरानी एक्सप्रेस की आठ बोगियां पटरी से उतरी तो काठगोदाम दिल्ली देहरादून के बीच रेल यातायात ठप हो गया। जम्मू कश्मीर, दिल्ली, देहरादून और पंजाब से लखनऊ, इलाहाबाद, असम, बिहार, झारखंड, पश्चिमी बंगाल की तरफ जाने वाली ट्रेनों के पहिये थम गए। कुछ ट्रेनों को रास्ता बदल कर चलाया गया, लेकिन  काठगोदाम से देहरादून और मुरादाबाद जाने वाली ट्रेनों को लेकर अनिश्चितता की स्थिति बनी है। हालांकि अपर मंडल रेल प्रबंधक प्रमोद कुमार ने कहा कि जल्दी ही ट्रैक की मरम्मत कर रेल यातायात सुचारु कर दिया जाएगा। उनका कहना है कि इस हादसे के कारण एक दर्जन से ज्यादा ट्रेनों को संचालन प्रभावित हुआ है। जबकि 2232 चंडीगढ़ एक्सप्रेस, स्याहलदा एक्सप्रेस, 2040, 5652 सहित पांच ट्रेनों को रूट बदल कर चलाया गया है। यानी ये ट्रेने चंदौसी होकर बरेली की तरफ मोड़ दी गई हैं। 

गति धीमी होने से बच गया बड़ा हादसा

रामपुर। मेरठ से चलकर लखनऊ जा रही राज्यरानी एक्सप्रेस की गति धीमी होने के कारण बड़ा हादसा होने से टल गया। दरअसल मुरादाबाद से चलकर रामपुर की तरफ बढ़ रही राज्यरानी एक्सप्रेस के चालक ने कोसी नदी का पुल पार करते ही ट्रेन की गति घटा दी थी। जिसकी वजह से ट्रेन बड़े हादसे का शिकार होने से बच गई। गनीमत यह भी रही कि कोसी नदी के पुल पर रेल पटरी टूटी हुई नहीं थी। वरना पुल पर हादसा हुआ होता तो नुकसान कहीं ज्यादा होता। 


Visitors: 291484
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.