22nd June 2018 499

बचपन की दोस्ती निभाने को कातिल बना जिगरी दोस्त


कत्ल की साजिश रचने वाली पत्नी प्रेमी संग पहले ही हुई गिरफ्तार

फरार चल रहे प्रेमी के दोस्त को पुलिस ने काशीपुर से गिफ्तार किया

प्रेमी ने ही दागी थी प्रेमिका के पति के सीने और कनपटी में गोली


रुद्रपुर। बचपन की दोस्ती निभाने के लिए एक जिगरी दोस्त कातिल बन गया। दोस्त और दोस्त की प्रेमिका के लिए उसने एक जघन्य हत्याकांड को अंजाम दे डाला। तीनों कातिलों ने साजिश ऐसी रची कि पुलिस उन तक पहुंच न सके, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। कानून के लंबे हाथों ने वारदात में शामिल पत्नी और उसके प्रेमी को पहले ही धर दबोचा था। जबकि आज आखिरी कातिल भी पुलिस के हत्थे चढ़ गया। पुलिस ने वारदात में शामिल आलाकत्ल समेत तमाम साक्ष्य सुरक्षित कर लिए हैं। 

बीती 14 जून को शांतिकुंज गली नंबर तीन निवासी अतुल शर्मा का बेदर्दी से कत्ल कर दिया गया था और लाश ऊंट पड़ाव खताड़ी स्थित एक बगीचे के गेट के बाहर फेंक दी गई। अतुल के सीने और कनपटी में गोली मारी गई थी। जिसकी शिनाख्त अतुल की मां तारा देवी ने की थी। मामले के खुलासे में लगी पुलिस 18 जून को अतुल की पत्नी राखी व स्वैगड़ी थाना बिजनौर निवासी अंकित चौधरी को धर दबोचा पुलिस ने खुलास किया कि अंकित और राखी के बीच अवैध संबंध हैं। जिसके चलते योजना बनाकर अतुल की हत्या की गई। इस वारदात में अंकित ने अपने जिगरी दोस्त सुशील उर्फ छोटे पुत्र राधे निवासी स्वैहडी बिजनौर को भी शामिल किया। इस मामले में सुशील फरार चल रहा था, जिसे आज पुलिस ने रामनगर बस अड्डा काशीपुर से धर दबोचा। सुशील ने बताया कि बीती 13 जून को वह अंकित चौधरी के साथ बाइक पर सवार हो कर निकला था, लेकिन बाइक की नंबर प्लेट हटा दी थी। बाइक रामनगर बस अड्डे पर खड़ी की और वहां से केले खरीदे। सिके बाद अंकित हेलमेट पहन कर अतुल के घर गया। फिर तीनों बाइक पर सवार होकर घटना स्थल पर बगीचे में पहुंचे। जहां तीनों ने शराब पी और फिर अंकित ने अतुल के सीने व कनपटी में गोली मार दी। शव की शिनाख्त न हो सके इसलिए अतुल का मोबाइल निकाल लिया। अंकित के कपड़े खून से सन चुके थे जो उसने अपने बैग में रख लिए। वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों बाइक से घर की ओर रवाना हो लिए। रामनगर काशीपुर स्थित पुलिस चेकिंग बैरियर से बचने के लिए उन्होंने बैग व मोबाइल वहीं स्थित मजार से कुछ दूरी पर फेंक दिये। सुशील ने बताया कि इस साजिश में राखी भी शामिल थी। चूंकि वह अंकित के बचपन का दोस्त था तो अंकित के एक बार कहने पर ही वह कत्ल की वारदात को अंजाम देने के लिए राजी हो गया। मामले में पुलिस ने घटना में इस्तेमाल 315 बोर का तमंचा न, एक खोका, बैग नत्थनपीर नजार से 100 मीटर आगे जंगल की तरफ पीपल के पेड़ के पास से बरामद कर लिया है। 



Visitors: 303450
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.