18th August 2018 51

केरल में जलप्रलय, लाखों लोग बेघर


अब तक 385 लोगों की मौत, हजारों लोग फंसे, बारिश ने तोड़ा 100 साल पुराना रिकार्ड

प्रधानमंत्री ने किया हवाई सर्वेक्षण, बाढ़ और बारिश से मरने वालों को 2 लाख व घायलों को 50 हजार रुपये की घोषणा

एक दर्जन से अधिक हेलीकॉप्टर, सैकड़ों रक्षा कर्मी, एनडीआरएफ  की टीमें और मछुआरे बचाव कार्यों में जुटे

तिरुवनंतपुरम। केरल इन दिनों भयंकर बाढ़ की चपेट में है। भारी बारिश और बाढ़ के चलते अब तक राज्य में 385 लोगों की मौत हुई है जबकि हजारों की संख्या में लोग फंसेे हुए हैं और लाखों लोग बेघर हो गए हैं। एक दर्जन से अधिक हेलीकॉप्टर, सैकड़ों रक्षा कर्मी, एनडीआरएफ  की टीमों और मछुआरे बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केरल में बाढ़ की तबाही का जायजा लेने के लिए कोच्चि पहुंच गए हैं। शनिवार को पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के साथ बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वक्षण किया। प्रधानमंत्री ने केरल में बाढ़ और बारिश के कारण मरने वाले लोगों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की है।

बता दें कि केरल में मूसलाधार बारिश और बाढ़ ने पिछले 100 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। सूबे के हालात बेहद बदतर हो गए हैं। राज्य के कई हिस्से बाढ़ की चपेट में हैं। बाढ़ के चलते अब तक 385 लोगों की जान चली गई है जबकि 3 लाख 14 हजार 391 लोग बेघर हो गए हैं, जिनको 2000 से ज्यादा राहत कैंपों में रखा गया है। इसके अलावा काफी संख्या में लोग बाढ़ में फंसे हुए हैं, जिनको निकालने के लिए एक दर्जन से अधिक हेलीकॉप्टर, सैकड़ों रक्षा कर्मी, एनडीआरएफ  की टीमों और मछुआरे बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। इलाके से पानी को बाहर निकालने के लिए 80 डैम खोल दिए गए हैं। इसके अलावा रक्षा मंत्रालय ने केरल को राहत और बचाव कार्य के लिए 1300 लाइफ जैकेट्स, 571 लाइफबॉय, एक हजार रेनकोट, 1300 गमबूट, 25 मोटराइज्ड बोट, नौ नॉन मोटराइज्ड बोट, 1500 फूड पैकेट और 1200 रेडी टू ईट मील उपलब्ध कराए हैं। कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रनवे पर बाढ़ का पानी भर जाने के कारण विमानों का परिचालन बंद कर दिया गया है। जलभराव के चलते रेल और सड़क परिवहन भी ठप हो गया है। केरल सीएमओ ने ट्वीट कर पीडि़तों की मदद के लिए लोगों से डोनेटशन देने की अपील की है। 

सूबे के कुछ इलाकों में बारिश थोड़ी थमी है, लेकिन पथनमथिट्टा, अलपुझा, एर्नाकुलम, त्रिशूर, अलुवा, कालाडी, पेरुम्बवूर, मुवाट्टुपुझा और चालाकुडी, पेरुं बवूर, मुवातुपुझा जिले अब भी मॉनसूनी संकट से जूझ रहे हैं। इन जिलों में लोगों को निकालने के लिए स्थानीय मछुआरों के अलावा एनडीआरआफ की टीमें राहत और बचाव अभियान में जुटी हुई है।

उधर बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों का प्रधानमंत्री मोदी ने आज केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के साथ हवाई सर्वक्षण किया। प्रधानमंत्री ने केरल में बाढ़ और बारिश के कारण मरने वाले लोगों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की है।

पीएम ने की सीएम के साथ बैठक

पीएम मोदी ने मुख्यमंत्री पिनारयी विजयन के साथ बैठक की। इस दौरान सीएम ने कहा कि प्रारंभिक मूल्यांकन के अनुसार केरल को 19,512 करोड़ का नुकसान हुआ है। बैठक में केरल सरकार ने केंद्र से 2000 हजार करोड़ रुपये की सहायता की मांग की। केंद्र सरकार ने फिलहाल केरल को 500 करोड़ रुपये की सहायता देने घोषणा की है।



Visitors: 303441
© 2018 Vasundhara Deep News. All rights reserved.