- Join Our Whatsapp Group -
Home देश राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी ए.जी. पेरारिवलन को 31 साल बाद रिहा...

राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी ए.जी. पेरारिवलन को 31 साल बाद रिहा करने का आदेश, अन्य 6 दोषियों की भी जागी उम्मीद

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के दोषियों में से एक एजी पेरारिवलन को सुप्रीम कोर्ट ने रिहा करने का आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे पेरारिवलन की समय पूर्व रिहाई की मांग करने वाली याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ था। कोर्ट का फैसला आने के बाद नलिनी श्रीहरन, मरुगन, एक श्रीलंकाई नागरिक सहित मामले में अन्य 6 दोषियों की रिहाई की उम्मीद भी जग जाएगी।
इसके पहले की सुनवाई में केंद्र सरकार ने राजीव गांधी हत्याकांड में 30 साल से ज्यादा कारावास की सजा काट चुके एजी पेरारिवलन की दया याचिका राष्ट्रपति को भेजने के तमिलनाडु के राज्यपाल के फैसले का बचाव किया था। कोर्ट में अतिरिक्त सालिसिटर जनरल (एएसजी) केएम नटराज ने जस्टिस एल. नागेश्वर राव, जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस एएस बोपन्ना की पीठ को बताया कि केंद्रीय कानून के तहत दोषी ठहराए गए व्यक्ति की सजा में छूट, माफी और दया याचिका के संबंध में याचिका पर केवल राष्ट्रपति ही फैसला कर सकते हैं।
बता दें कि राजीव गांधी हत्याकांड मामले में सात लोगों को दोषी ठहराया गया था। सभी दोषियों को मौत की सजा सुनाई गई थी, लेकिन साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने इसे आजीवन कारावास में बदल दिया था। इसके बाद कोई राहत न मिलने के बाद ही दोषियों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

जयललिता ने की थी रिहाई की सिफारिश
2016 और 2018 में जे. जयललिता और ए. के. पलानीसामी की सरकार ने दोषियों की रिहाई की सिफारिश की थी। मगर बाद के राज्यपालों ने इसका पालन नहीं किया और अंत में इसे राष्ट्रपति के पास भेज दिया। लंबे समय तक दया याचिका पर फैसला नहीं होने की वजह से दोषियों ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था।

21 मई 1991 को हुई थी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या
21 मई 1991 को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की तमिलनाडु के श्रीपेरंबुदूर में हत्‍या हुई थी और 11 जून 1991 को पेरारिवलन को गिरफ्तार किया गया था। पेरारिवलन घटना के समय 19 साल का था और वह पिछले 31 सालों से जेल में बंद है।

Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read

नोटिस तामील कराने गई पुलिस से दो महिलाएं बुरी तरह उलझी

काशीपुर। नोटिस तामील कराने गई पुलिस टीम से दो महिलाएं बुरी तरह उलझ गयीं। उन्होंने गालीगलौच करते हुए टीम को देख लेने की धमकी...

प्लाट के नाम पर सिपाही से की धोखाधड़ी

काशीपुर। गलत प्लाट दिखाकर सिपाही से धोखाधड़ी करने के आरोप में पुलिस ने अल्मोड़ा की महिला समेत दो के खिलाफ केस दर्ज किया है।...

कुंडेश्वरी क्षेत्र में चेकिंग के दौरान बिजली विभाग की टीम ने दो जगह पकड़ी बिजली चोरी

  काशीपुर। बिजली चोरों के खिलाफ गर व ग्रामीण क्षेत्र में विद्युत विभाग का सघन चैकिंग अभियान जारी है। अभियान के चलते कुण्डेश्वरी क्षेत्र में...

मिशन नारी शक्ति एवं बाल जन विकास एसोसिएशन ने पर्यावरण को सुरक्षित रखने हेतू अधिक से अधिक पौधे लगाने को आमजन से अपील की

काशीपुर। विश्व पर्यावरण पखवाड़े के सफलतापूर्वक सम्पन्न होने के उपरांत *मिशन* नारी शक्ति एवं बाल जन विकास एसोसिएशन (रजि.) द्वारा शनिवार सायं धन्यवाद कार्यक्रम...
Related News

नोटिस तामील कराने गई पुलिस से दो महिलाएं बुरी तरह उलझी

काशीपुर। नोटिस तामील कराने गई पुलिस टीम से दो महिलाएं बुरी तरह उलझ गयीं। उन्होंने गालीगलौच करते हुए टीम को देख लेने की धमकी...

प्लाट के नाम पर सिपाही से की धोखाधड़ी

काशीपुर। गलत प्लाट दिखाकर सिपाही से धोखाधड़ी करने के आरोप में पुलिस ने अल्मोड़ा की महिला समेत दो के खिलाफ केस दर्ज किया है।...

कुंडेश्वरी क्षेत्र में चेकिंग के दौरान बिजली विभाग की टीम ने दो जगह पकड़ी बिजली चोरी

  काशीपुर। बिजली चोरों के खिलाफ गर व ग्रामीण क्षेत्र में विद्युत विभाग का सघन चैकिंग अभियान जारी है। अभियान के चलते कुण्डेश्वरी क्षेत्र में...

मिशन नारी शक्ति एवं बाल जन विकास एसोसिएशन ने पर्यावरण को सुरक्षित रखने हेतू अधिक से अधिक पौधे लगाने को आमजन से अपील की

काशीपुर। विश्व पर्यावरण पखवाड़े के सफलतापूर्वक सम्पन्न होने के उपरांत *मिशन* नारी शक्ति एवं बाल जन विकास एसोसिएशन (रजि.) द्वारा शनिवार सायं धन्यवाद कार्यक्रम...

रुद्रपुर पहुंचे मुख्यमंत्री धामी, आपातकाल के दौरान संघर्ष करने वाले सेनानियों को किया सम्मानित

रुद्रपुर। प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रमानुसार शनिवार को बिगवाड़ा स्थित पार्टी कार्यालय पहुॅचकर आपातकाल के दौरान लोकतंत्र की...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here